July 6, 2022
किसानों के लिए बड़ी खबर: अब बोरा ढोने की जरूरत नहीं, बोतल में मिलेगा यूरिया

Big news for farmers: Now there is no need to carry sacks, urea will be available in the bottle

मथुरा। तकनीकि का लाभ कृषि क्षेत्र को भी मिल रहा है। किसानों को यूरिया के बोरों के लिए मारामारी करते हुए देखा होगा। अब किसानों को यूरिया के बोरा ढोने की जरूरत नहीं, एक बोरा यूरिया आधा लीटर की बोतल में तरल रूप में मिलेगा। भारत सरकार के कृषि वैज्ञानिकों ने यूरिया के स्थान पर नैनो तरल यूरिया का सफल प्रयोग कर किसानों को राहत प्रदान की है। उन्होंने किसानों से इसका प्रयोग करने पर जोर दिया।

भाजपा विधायक राजेश चौधरी ने कहा कि इफको एवं सहकारिता के सहयोग से ब्लॉक सभागार में इफको नैनो तरल यूरिया पर आधारित किसान गोष्ठी को संबोधित करते हुए कहा कि पहले किसान यूरिया के बोरे को सिर पर रखकर खेत तक ले जाते थे, अब उसकी आवश्यकता नहीं है जो काम यूरिया का एक बोरा करता था वही काम लिच्डि फॉर्म में 500 मिली की एक बोतल करेगी, जिसकी कीमत यूरिया के बैग से कम है और यह तरल यूरिया किसानों को हर इफको सेंटर पर प्राप्त होगा।

अपर जिला विकास अधिकारी हिबा ख्वाजा ने किसानों को इसके प्रयोग एवं इसके लाभों के बारे में बताया। इफको के सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक सतवीर सिंह ने बताया कि तरल यूरिया कम लागत में अच्छी पैदावार देने का काम करती है। इसका प्रयोग आलू, धान, गन्ना, गेहूं व सब्जियों सहित सभी फसलों में किया जा सकता है।

एसडीओ (कृषि) सुबोध सिंह ने कहा किसानों के इसके प्रयोग में यदि कोई समस्या हो तो इफको सेंटर पर अथवा ब्लॉक स्थित कृषि विभाग के लोगों से संपर्क कर सकते हैं। किसान गोष्ठी के शुभारंभ से पूर्व सहकारिता एवं कृषि विभाग के अधिकारियों ने विधायक का स्वागत किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!