August 12, 2022
सिसवा विकास खण्ड: मनरेगा घोटाले में पुलिस को दी तहरीर, अबतक मामला दर्ज नही, सचिव का नाम गायब

सिसवा बाजार-महाराजगंज। सिसवा विकासखंड के ग्राम मथानिया में कुवैत गए विद्यासागर को गांव में पोखरी की खुदाई कार्य में मजदूरी दिखाकर मनरेगा योजना के तहत 14 दिन की मजदूरी मामला के खुलासे के बाद अतिरिक्त कार्यक्रम अधिकारी ने सिंदुरिया पुलिस को तहरीर तहरीर दे दी है लेकिन सवाल यह है कि इस तरह में सचिव का नाम गायब कर दिया गया है।

अतिरिक्त कार्यक्रम अधिकारी सिसवा सौरभ चौधरी ने 12 जुलाई 2022 को सिंदुरिया थाने पर दिए तहरीर में लिखा है कि उमाशंकर प्रसाद निवासी ग्राम पंचायत मथानिया विकासखंड सिसवा द्वारा इस आशय की शिकायत किया गया था कि विद्यासागर पुत्र सीताराम जॉब कार्ड संख्या 7280 जो दिनांक 22-05-22 को घर से मुंबई के लिए और दिनांक 25-05-22 को मुंबई से कुवैत के लिए रवाना हुए थे, जिसका हाजिरी राजेन्द्र पटेल पुत्र रामनारायण के खेत में पोखरी खुदाई कार्य में दिनांक 23-05-22 से 05-06-22 तक भर कर कुल 14 दिन 2982 रूपये की मजदूरी का गलत तरीके से भुगतान किया गया है, शिकायत की अभीलेखीय परिक्षण अधोहस्ताक्षरी द्वारा किया गया, जिसमें शिकायत सही पाई गई है।

उपरोक्त जाबकार्ड धारी के बाहर होने के बावजूद मनरेगा में हाजिरी लगाकर 2982 रूपये का सरकारी धन का गलत भुगतान ग्राम प्रधान ब्रह्मानंद पटेल व रोजगार सेवक श्रीमती कुंती देवी द्वारा कराया गया है, शिकायत की प्रति इस पत्र के साथ संकलन करते हुए इस आशय से प्रेषित है कि ब्रह्मानंद पटेल ग्राम प्रधान व श्रीमती कुंती देवी ग्राम रोजगार सेवक ग्राम पंचायत मथानिया के विरूद्व प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज करते हुए आवश्यक कार्रवाई करने का कष्ट करें।
तहरीर में सचिव का नाम गायब

खण्ड विकास कार्यालय से सिंदुरिया पुलिस को जो तहरीर दी गयी है उसमें सचिव प्रेम सागर पटेल का नाम गायब है, मनरेगा के इस मामले में सिर्फ ग्राम प्रधान और रोजगार सेवक को ही दोषी बनाया गया है जब कि सचिव भी इस मामले में शामिल है, ऐसे में अब सवाल उठने लगा है कि तहरीर से सचिव का नाम गायब कर कौन बचाने में लगा हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!