November 27, 2022
फुटबॉल मैच में हुई हिंसा: बिछ गई सैंकड़ों लाशें; हार से बौखलाए फैंस मचा रहे थे उपद्रव

इंडोनेशिया। एक फुटबॉल मैच के बाद हुई हिंसा में मरने वालों की संख्या 174 पार कर गई है। जबकि सैकड़ों लोग घायल बताए जा रहे हैं। इस भीषण हिंसा को लेकर इंडोनेशिया के फुटबॉल संघ ने दुख जताया है।
इंडोनेशिया में एक फुटबॉल मैच के बाद हुई हिंसा में मरने वालों की संख्या 174 पार कर गई है। जबकि सैकड़ों लोग घायल बताए जा रहे हैं। इस भीषण हिंसा को लेकर इंडोनेशिया के फुटबॉल संघ ने दुख जताया है। साथ ही अगले एक सप्ताह के मैच पर पाबंदी लगा दी है। इस घटना की जांच के भी आदेश दिए हैं। चलिए, जानते हैं कैसे मैच की एक ने हिंसा का विकराल रूप ले लिया और मैदान में सैंकड़ों लाशें बिछ गई।

उपद्रवियों को शांत करने के लिए पुलिस टीम को आंसू गैस के गोले छोड़े पड़े। जिसके बाद मैदान में भगदड़ मच गई।

घटना शनिवार रात पूर्वी जावा के मलंग रीजेंसी के कंजुरुहान स्टेडियम में इंडोनेशियाई लीग बीआरआई लीगा 1 के एक फुटबॉल मैच के बाद हुई। इलाके के पुलिस प्रमुख, निको अफिंटा ने कहा कि अरेमा एफसी और पर्सेबाया सुरबाया के बीच मैच के बाद हारने वाले पक्ष के समर्थकों द्वारा पिच पर हमला कर दिया गया। जिसके बाद अधिकारियों को आंसू गैस छोड़नी पड़ी, जिससे भगदड़ मच गई थी।
उपद्रवियों को शांत करने के लिए पुलिस टीम को आंसू गैस के गोले छोड़े पड़े। जिसके बाद मैदान में भगदड़ मच गई। बताया जा रहा है कि कई लोगों की मौत दम घुटने की वजह से भी हुई है। सोशल मीडिया पर इस घटना का वीडियो भी सामने आया है।
सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए वीडियो फुटेज में लोगों को मलंग में स्टेडियम की पिच पर दौड़ते हुए देखा जा सकता है। इस हिंसा में मरने वालों की संख्या 174 पार कर गई है। जबकि, कई लोग घायल हो गए।

इंडोनेशिया के फुटबॉल संघ ने एक बयान जारी कर घटना पर खेद व्यक्त किया और कहा कि खेल के बाद जो हुआ उसकी जांच शुरू करने के लिए एक टीम मलंग के लिए रवाना हो गई है। इंडोनेशिया के फुटबॉल संघने बयान में कहा, पीएसएसआई ने कांजुरुहान स्टेडियम में अरेमा समर्थकों की हरकत पर खेद जताया। हमें खेद है और पीड़ितों के परिवारों और घटना के लिए सभी पक्षों से माफी मांगते हैं। इसके लिए पीएसएसआई ने तुरंत एक जांच दल का गठन किया और तुरंत मलंग के लिए रवाना हो गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!