December 7, 2022
सैल्यूट तिरंगा ने बच्चों को किया सम्मानित

नई दिल्ली। दिल्ली के हिमाचल भवन में सैल्यूट तिरंगा ने एक कार्यक्रम का आयोजन किया। इस कार्यक्रम में सैल्यूट तिरंगा ने देश के उन बेटियों को सम्मानित किया जो देश के भविष्य की नींव रखने में अपना योगदान देने के लिए जीतोड़ मेहनत कर रहे हैं और देश को गौरवान्वित करने का कार्य कर रहे हैं। इस मौके पर पहुंचे मुख्य अतिथि भाजपा के वरिष्ठ उपाध्यक्ष श्याम जाजू ने भी बच्चों की हौसलाअफजाई की और आगे भी कार्य करते रहने के लिए उन्हें प्रोत्साहन दिया।
इस मौके पर दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष सुजीता मिश्रा, प्रेम सिंह, प्रदीप पांडे, नीरज गुप्ता, बी एन प्रसाद, मनीष शर्मा, नारायण करण, दिनेश जोशी, प्रमोद वर्मा, युवा अध्यक्ष शंकर मिश्रा, अनुज शर्मा सहित काफी संख्या में लोग मौजूद रहे। खिलाड़ियों में संध्या, रूचिका, जसमीन, ममता, कल्याणी, दिव्या, नेहा कुमारी को सम्मानित किया गया। जबकि कोच सुखदेव मंडल ने भी खिलाड़ियों के विषय में जानकारी दी।

श्याम जाजू ने इस मौके पर कहा कि सैल्यूट तिरंगा में मन से दिल से काम करने वाले मेहनत से काम करने वाले लोग हैं। ऐसे कार्यक्रम करते रहते हैं जो लोगों को प्रेरणा देने का काम करते हैं। उन्होंने कहा कि रूस और यूक्रेन के युद्ध में पीएम ने कहा था कि आप दोनों की लड़ाई में उन छात्रों का क्या दोष है जो वहां पर फंसे हुए हैं उन्हें कुछ नहीं होना चाहिए।
इस पर न वीजा देखा गया न पासपोर्ट केवल तिरंगा लेकर ही लोग बाहर निकल आए। यह तिरंगे की सबसे बड़ी उपलब्धि है। यह पहली ऐसी सरकार है जिसने कहा कि शांति और आतंकवाद दोनों साथ साथ नहीं चल सकते। भारत की विशेषता बताते हुए उन्होंने बताया कि डॉटर्स डे, मदर्स डे, पत्रकारिता के विषय में हमारे देश में पहले से चलता आया है कन्या पूजन पहले से होता आया है, नारदजी को हम पहले से पत्रकार मानते आए हैं। ये सब चीजें हमारी सोच में शामिल हैं। लेकिन आज आप नए नाम लेकर आए हो तो यहां बखान कर रहे हो। ये पहली ऐसी सरकार है जिसने महापुरूषों के नाम को किसी न किसी जगह पर जोड़ा। और देशभक्ति जगाने का कार्य किया।

देश प्रेम की सोच से प्रभावित हूं, सैल्यूट तिरंगा के लिए कार्य कर रहे लोगों की विचारधारा उत्तम हैः श्याम जाजू

कोरोना के समय में ताली, थाली बजाने पर लोगों ने आपत्ति जताई और कहा कि इससे कोरोना जाएगा। हमें भी पता है इससे कोरोना नहीं जाएगा। लेकिन लोगों का भाव जगाने के लिए हमें ताली और थाली बजाने की जरूरत थी ताकि सब लोग एकजुटता के साथ कोरोना का मुकाबला कर सकें। नए भारत की कल्पना में हम जो योजनाएं देश के लिए बनाते हैं वे सभी योजनाएं देश के विकास को परिपक्व बनाती हैं। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री रहीं इंदिरा जी का उदाहरण देते हुए कहा कि इंदिरा जी के विदेश सचिव ने अपनी आत्मकथा में लिखा था पहले अमेरिका के राष्ट्रपति ने उन्हें 45 मिनट वेट कराया था लेकिन, आज स्थितियां बदली हुई हैं।
भाजपा की कर्मठ नेता संयुक्ता ने भी अपने ओजस्वी भाषण में कहा कि दुख होता है जब यह सुनने में आता है कि भारत तेरे टुकड़े होंगे। हमें इस विचारधारा को तोड़कर रखना होगा हमारे देश में रहकर यह सब नहीं चलेगा। बाहरी लोग आकर हमारे देश की बहन बेटियों पर नजर डालते हैं। बहन बेटियों को घर से निकलने में दिक्कत न हो। कहीं ये सब चीजें नासूर न बन जाएं हमें इस पर विचार करने की जरूरत है।
कवियित्री मंजुषा रंजन ने भी पंक्तियों के माध्यम से अपने भाव व्यक्त किए। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए राजेश झा ने आए हुए सभी लोगों का आभार जताया। आज देश 25 राज्यो सहित विश्व के 10 देशों में सैल्यूट तिरंगा टीम पूरी तरह कार्य कर रहा है तथा शीघ्र ही 100 देशों में कार्य करना शुरू कर देगा।
दिल्ली के मीडिया प्रभारी अजीत कुमार सिंह ने सैल्यूट तिरंगा के विषय में कहा कि अगर चल सको तो स्वयं ही चलो तुम सफलता तुम्हारी चरण चूम लेगी। सदा जगाए बिना जो जगा है अंधेरा उसे देखकर भगा है, अगर उग सको तो उगो सूर्य से प्रखरता तुम्हारी चरण चूम लेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!