February 6, 2023
उर्दू दिवस (यौमे उर्दू) के मौक़े पर समाजवादी नेताओं ने गुलशने क़दरिया मदरसा के बच्चों में किया फल एवं मिठाइयां वितरण

सेराज अहमद कुरैशी
गोरखपुर। उर्दू दिवस (यौमे उर्दू) के मौक़े पर, असुरन भेड़ियागढ़ गुलशने क़दरिया मदरसा के बच्चों में के बीच फल एवं मिठाइयां वितरण किया गया महानगर समाजवादी पार्टी मेम्बरान की ज़ानिब से उर्दू दिवस मनाया गया।

इस मौक़े पर महानगर समाजवादी पार्टी के पूर्व सचिव आफ़ताब अहमद एवं पूर्व पार्षद जावेद अहमद के नेतृत्व में कहा कि ख़ुदी का फलसफा देने वाले अल्लामा इक़बाल और ख़ुद शनासी का पैगाम पहुंचाने वाले मौलाना अबुल कलाम आज़ाद दोनों अज़ीम शख्सियतों की यौमे पैदाइश इसी नवंबर माह में है स दोनों कलम के शहंशाह थें स अल्लामा इक़बाल की शायरी और मौलाना आज़ाद की नस्र का कोई जवाब नहीं है स ‘सारे जहां से अच्छा हिंदोस्तां हमारा गीत लिखने वाले डॉ. सर अल्लामा मुहम्मद इकबाल के यौमे पैदाइश के मौक़े पर हर साल 9 नवंबर को पूरी दुनिया में उर्दू दिवस मनाया जाता है।

उर्दू दिवस के मौक़े पर गुलशने क़दरिया मदरसा के इमाम हाफ़िज शाकिर अली व इरफानुल्लाह खां ने कहा कि उर्दू एक जबान के साथ-साथ तहजीब (संस्कृति) है। उर्दू जबान हमारी गंगा-जमुनी संस्कृति की पहचान है। हमें उर्दू के बढ़ावे के लिए इसका ज्यादा से ज्यादा रोज़मर्रा की जिन्दगी में इस्तेमाल करना चाहिए।आज उर्दू दिवस के मौक़े पर सपा नेता इम्तियाज़ अहमद ने कहा कि उर्दू ज़बान अपने सादा व आसान माअने की वजह ज़्यादातर हिन्दुस्तानी कानून में भी आम है। उर्दू जबान दुनिया भर के 250 से अधिक देशों में बोली व समझी जाती है।

इस प्रोग्राम में हाफिज शाकिर अली, हाफ़िज नूर मोहम्मद, हाफ़िज अब्दुल मुजीब, आफताब अहमद, जावेद अहमद, इम्तियाज़ अहमद, मोहम्मद दानिश, राज मिश्रा, मोहम्मद अहमद वग़ैरह हाज़िर थें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!