December 8, 2022
कुरआन व हदीस को पढ़कर उस पर अमल करेंः कारी अनस

अंधियारी बाग में जलसा-ए-ग़ौसुलवरा

गोरखपुर। अंधियारी बाग में जलसा-ए-ग़ौसुलवरा का आयोजन हुआ। उलमा किराम ने हजरत सैयदना शेख अब्दुल कादिर जीलानी अलैहिर्रहमां की सीरत का विस्तृत वर्णन किया।
जलसे में कारी मोहम्मद अनस रज़वी ने बतौर मुख्य अतिथि कहा कि अल्लाह ने मुसलमानों को दीन-ए-इस्लाम के वसूलों पर चलने का हुक्म दिया है। दीन-ए-इस्लाम के वसूल मतलब कुरआन और पैग़ंबरे इस्लाम हजरत मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के बताये गए रास्ते हैं। पैग़ंबरे इस्लाम की पाक जिंदगी इंसानियत के लिए एक बेहतरीन मिसाल है, जिससे पूरी दुनिया एक अच्छी और मिसाली ज़िन्दगी गुजारने का सबक हासिल करती रही है। हमें कुरआन व हदीस को पढ़ने के बाद उस पर अमल भी करना चाहिए क्योंकि अमल के बगैर इल्म बेकार है।

कारी मोहम्मद शाबान बरकाती ने अध्यक्षता करते हुए कहा कि मुसलमानों को मौजूदा हाल से घबराने की जरूरत नहीं है। डटकर मुकाबला करने की जरुरत है। अल्लाह की रस्सी को मजबूती से पकड़ लीजिए। कुरआन में हर तरक्की का रास्ता मौजूद है। कोई भी इंसान पैग़ंबरे इस्लाम हजरत मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के बताए रास्ते पर चलकर दुनिया और अखिरत की कामयाबी हासिल कर सकता है।
अंत में सलातो सलाम पढ़कर मुल्क व मिल्लत के लिए दुआ की गई। अकीदतमंदों को लंगर-ए-ग़ौसिया खिलाया गया। संचालन हाफिज रहमत अली निजामी ने किया। इस मौके पर शहाबुद्दीन, कारी बदरुल हसन, जियाउल हक अत्तारी, हाजी सलीम, आसिफ रज़ा, अख्तर हुसैन, मैनुद्दीन, कमरुद्दीन आदि लोग मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!