home page

बड़ी लापरवाही: कोरोना टेस्ट की जिद में 8 महीने के बच्चे ने गर्भ में तोड़ा दम

 | 
बड़ी लापरवाही: कोरोना टेस्ट की जिद में 8 महीने के बच्चे ने गर्भ में तोड़ा दम

बीजिंग। चीन में अस्पताल की बड़ी लापरवाही के कारण 8 महीने के बच्चे की गर्भ में ही मौत हो गई।
     जानकारी के अनुसार, प्रसव से तड़प रही यह महिला अस्पताल के बाहर इलाज के बिना कराह रही थी लेकिन अस्पताल प्रशासन ने बिना कोविड टेस्ट किए उसे अंदर जाने से मना कर दिया। इसके बाद आखिरकार इस महिला के गर्भ में पल रहे बच्चे ने तम तोड़ दिया। इस मामले में अस्पताल प्रशासन की आलोचना होने के बाद यहां के शीर्ष स्वास्थ्य अधिकारी ने माफी मांगी है। यह घटना शिआन शहर में हुई है।
     पीडि़त महिला की एक रिश्तेदार ने 1 जनवरी को इस पूरी घटना का जिक्र एक सोशल मीडिया पर पोस्ट कर किया। इस पोस्ट में उन्होंने घटना की तस्वीरें और वीडियो भी शेयर किया है। जिसमें नजर आ रहा था कि प्रसव दर्द से कराह रही महिला अस्पताल के बाहर एक प्लास्टिक के स्टूल पर बैठी हैं और वहां हर तरह खून है। हालांकि, बाद में इस पोस्ट को डिलीट कर दिया गया लेकिन तब तक इसे लाखों लोगों ने देख लिया था। इसके बाद लोगों ने अस्पताल प्रशासन की जमकर आलोचना की थी।
 

जानकारी के अनुसार, अस्पताल के कर्मचारियों ने गर्भवती महिला को करीब 2 घंटे तक अस्पताल में भर्ती नहीं किया क्योंकि उनके पास कोविड-19 निगेटिव रिपोर्ट नहीं थी। हालांकि, इस पोस्ट की पुष्टि अभी तक नहीं की गई है।
       बताया जा रहा है इस वीडियो में शिआन शहर में रहने वाले लोगों की मजबूरी नजर आई तो सोशल मीडिया पर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा। इसके बाद शिआन के हेल्थ कमिशन डायरेक्टर लियू शुनझी सामने आए और इस पूरी घटना के लिए माफी मांगने लगे। लियू शुनझी ने गुरुवार को पत्रकारों से कहा कि उन्हें खेद है कि महामारी के दौरान स्वास्थ्य सेवाएं हासिल करने में परेशानी हो रही है। उन्होंने बताया कि अस्पताल प्रशासन को पीडि़ता को मुआवजा देने के निर्देश दिया गया है। वहीं अस्पताल के जनरल मैनेजर को सस्पेंड कर दिया गया है।