home page

5 लाख से अधिक युवाओं को मिलेगा रोजगार-सभी जिलों में होगा कार्यक्रम

भोपाल : प्रदेश के 5 लाख 26 हज़ार युवाओं को रोजगार से जोड़ने के महात्वाकांक्षी...
 | 
5 लाख से अधिक युवाओं को मिलेगा रोजगार-सभी जिलों में होगा कार्यक्रम

भोपाल : प्रदेश के 5 लाख 26 हज़ार युवाओं को रोजगार से जोड़ने के महात्वाकांक्षी अभियान का शुभारंभ 12 जनवरी विवेकानंद जयंती पर रोजगार मेलों के साथ होगा। राज्य स्तरीय समारोह में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान  रोजगार दिवस पर स्व-रोजगार योजनाओं में लाभान्वित हितग्राहियों को ऋण स्वीकृति-पत्रों का वितरण कुशाभाऊ ठाकरे हॉल भोपाल में करेंगे। दोपहर एक बजे से होने वाले इस समारोह में मुख्यमंत्री चौहान द्वारा मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना का शुभारंभ भी किया जाएगा। मुख्यमंत्री चौहान बालाघाट, नीमच, झाबुआ, रीवा, टीकमगढ़ और ग्वालियर जिले के लाभान्वित युवा हितग्राहियों  से संवाद भी करेंगे।  समारोह का इलेक्ट्रॉनिक और सोशल मीडिया के माध्यम से सीधा प्रसारण होगा।

स्वामी विवेकानंद जयंती पर सभी जिला मुख्यालयों पर भी रोजगार मेले लगेंगे, जहाँ युवाओं को रोजगार के लिए शासन के विभिन्न विभागों और केंद्र शासन की संचालित योजनाओं में हितग्राहियों को ऋण राशि के स्वीकृति-पत्र प्रदान किये जायेंगे। रोजगार मेले में प्रधानमंत्री स्व-निधि योजना, प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम,  प्रधानमंत्री मुद्रा योजना, राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन,  राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन और  मुख्यमंत्री ग्रामीण पथ विक्रेता योजना में युवाओं को लाभावित किया जायेगा।

मुख्यमंत्री चौहान द्वारा शुरू की जाने वाली मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना का क्रियान्वयन सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम विभाग द्वारा किया जाएगा। योजना में प्रदेश के युवाओं को रियायती ब्याज दर पर वित्तीय संस्थानों के माध्यम से ऋण उपलब्ध करवाया जाएगा। राज्य शासन द्वारा गारंटी शुल्क भी वहन किया जाएगा।

सचिव एमएसएमई पी. नरहरि ने बताया कि मध्यप्रदेश में स्व-रोजगार की अपार संभावनाओं के दृष्टिगत विभिन्न विभागों एवं बैंको के माध्यम से कई स्व-रोजगार योजनाओं का संचालन किया जा रहा है। राज्य शासन द्वारा स्व-रोजगार को प्रोत्साहन देने के लिए महत्वाकांक्षी मुख्यमंत्री उद्यम क्रान्ति योजना प्रारम्भ की गई है, जिसमें बड़ी संख्या में युवाओं को स्व-रोजगार से जोड़ा जाएगा।  सभी स्व-रोजगार योजनाओं के सफल क्रियान्वयन के लिये योजनाओं से जुड़ी शासकीय एजेंसियाँ, वित्तीय संस्थान, हितग्राही, प्रशिक्षण संस्थान और उद्यमिता केन्द्र एक साथ मिलकर कार्य कर रहे हैं। रोजगार मेलों को उद्देश्य युवाओं को स्व-रोजगार से जोड़ कर उन्हें रोजगार देने वाला बनाना है।

जिला स्तरीय कार्यक्रम

जिला स्तर के रोजगार मेलों में लाभार्थियों को स्वीकृति-पत्र दिये जायेंगे। पूर्व से स्व-रोजगार स्थापित कर चुके अनुभवी लोगों से स्व-रोजगार के इच्छुक व्यक्तियों का परिचय करवाया जाएगा, जिससे उनके अनुभवों का लाभ युवाओं को मिल सके। साथ ही स्व-रोजगार योजनाओं के लाभांवित सफल एवं स्थापित हितग्राहियों द्वारा निर्मित सामग्रियों की प्रदर्शनी, स्व-नियोजन के संबंध में विषय-विशेषज्ञों के माध्यम से युवाओं को परामर्श एवं मार्गदर्शन उपलब्ध कराया जाएगा। मेले में विभिन्न विभागों, बैंकिंग संस्थाओं इत्यादि के स्टॉल लगाए जाएंगे, जहाँ  युवा वर्ग को रोजगार योजनाओं, स्व-रोजगार की संभावनाएँ, बैंकिंग सुविधाओं आदि की जानकारी मिलेगी। नरहरि ने बताया कि जिला स्तरीय मेले में कोविड के दृष्टिगत 100 हितग्राहियों को आमंत्रित किया गया है, प्रशासन द्वारा जहाँ स्थानीय कोविड गाइडलाइन का पालन सुनिश्चित किया जाएगा।