home page
up abtk

किसानों के हत्यारों को हिरासत में न लेना संविधान खतरे में है: राहुल गांधी

 | 
किसानों के हत्यारों को हिरासत में न लेना संविधान खतरे में है: राहुल गांधी

नई दिल्ली । लखीमपुर खीरी में आठ लोगों की मौत का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है। विपक्ष उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार को बख्शने के मूड में नहीं है। विपक्ष लगातार सरकार पर हमला बोल रहा है। विपक्ष लगातार लखीमपुर खीरी हिंसा में आरोपी केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष की गिरफ्तारी की मांग कर रही है। इस मामले में किसान संगठन भी आरोपी की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं। अब मामले में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी सरकार पर हमला बोला है। कहा है कि किसानों को कुचलने वाले शख्स को हिरासत में नहीं लेने का मतलब है कि संविधान खतरे में है।
सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने लखीमपुर खीरी की हिंसा और प्रियंका गांधी वाद्रा को गिरफ्तार करने के मामले में सरकार पर निशाना साधा। कहा कि देश के अन्नदाता किसानों को गाड़ी से कुचलने वाले केंद्रीय मंत्री के पुत्र को हिरासत में नहीं लिए जाने का मतलब यह है कि देश का संविधान खतरे में है।
उनका बेटा घटना में शामिल नहीं : केंद्रीय मंत्री
इस मामले में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा कह चुके हैं कि उनका बेटा मौके पर मौजूद नहीं था। आज उन्होंने एक और बयान दिया। कहा कि अगर उनके बेटे के खिलाफ आरोपी सही साबित हुए तो वे अपना मंत्रीपद छोड़ देंगे। उधर प्रदेश सरकार ने कार्रवाई करते हुए प्रियंका गांधी वाड्रा के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। उन्हें सीतापुर गेस्ट हाउस में नजरबंद किया गया है। गेस्टहाउस को ही अस्थायी जेल बनाया गया है।
नहीं थम रहा लखीमपुर बवाल
लखीमपुर खीरी से जानकारी मिल रही है कि  दो किसानों के परिजनों ने अंतिम संस्कार रोक दिया है। बताया जाता है कि प्रशासन ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट लवप्रीत के परिजनों को दिखाई फिर भी परिजन अंतिम संस्कार को राजी नहीं हुए हैं। ऐसे में राकेश टिकैत परिजनों से मिलने पहुंचे हैं। लवप्रीत के परिवार से बंद कमरे में राकेश टिकैत की बातचीत हो रही है। इधर धौरहरा में किसान नक्षत्र सिंह के घर पहुंचे टीएमसी के तीन नेताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया है।