home page

PM Modi के सुरक्षा में हुए चूक को लेकर इतिहास कभी कांग्रेस को माफ नहीं करेगी : स्मृति ईरानी

 | 
PM Modi सुरक्षा में हुए चूक को लेकर इतिहास कभी कांग्रेस को माफ नहीं करेगी : स्मृति ईरानी

          नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के काफिले को प्रदर्शनकारियों के द्वारा रोका गया जिसके कारण उन्हें रैली कार्यक्रम रद्द करके दिल्ली वापस लौटना पड़ा। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने प्रधानमंत्री के सुरक्षा में हुए चूक को लेकर कहा कि भारत के इतिहास में इस तरह की घटना कभी नहीं घटी है। इसके लिए कांग्रेस को इतिहास कभी माफ नहीं करेगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से घृणा करने वाले लोग पीएम के सुरक्षा भंग होने से खुश हो रहे हैं उन लोगों को यह समझना चाहिए कि मोदी से गिरना कर सकते हैं लेकिन भारत के प्रधानमंत्री से उन्हें गिरना नहीं करना चाहिए।
    

          प्रधानमंत्री मोदी के सुरक्षा में हुए चूक को लेकर राज्यसभा सांसद और भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी ने पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि जिस तरह से वह पंजाब के मुख्यमंत्री हैं नरेंद्र मोदी भी भारत के प्रधानमंत्री हैं और उनके सुरक्षा को लेकर कोई भी राज्य के मुख्यमंत्री को अपने राज्य में इस तरह की सुरक्षा में लापरवाही बर्दाश्त नहीं करनी चाहिए। सुधांशु त्रिवेदी ने कहा कि भारत के इतिहास में पंजाब में हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सुरक्षा में चूक अभूतपूर्व घटना हुई है। आतंकवाद के क्षेत्र में ऐसा कभी सुरक्षा के साथ मजाक नहीं हुआ जो आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हुआ है। विरोधी आज यहां तक गिर गए हैं कि मोदी के प्रति उत्साह घृणा द्वेष इतना अधिक हो गया है कि उन्होंने पंजाब की गरिमा को धूलधसरित कर दिया है।
   

          केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी पंजाब सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि प्रधानमंत्री का दफतर कहां है यह सिर्फ सुरक्षा बल और पुलिस जानती है तो उस फलइओवर पर लोग कैसे पहुंच गये। प्रधानमंत्री के निकलने से पहले सुरक्षा अधिकारियों ने जानकारी ली तो पंजाब के डीजीपी ने आश्वास्त किया था कि कोई अवरोध नहीं है तो क्या वह झूठ  बोल रहे थे। प्रधानमंत्री के जाने का रूट से जाते हैं तो उस रूट का क्लीयरेंस राज्य सरकार के पुलिस को देना होता है। पंजाब पुलिस रूट क्लियर्स दे दिया तो क्या पंजाब पुलिस द्वारा जानबूझकर झूठ बोला गया। सवाल यह उठता है कि फ्लाईओवर पर 20 मिनट तक पीएम की सुरक्षा भंग की गई सुरक्षा भंग करने वाले लोगों को पीएम के गाड़ी के पास तक कैसे आने दिया गया। घटना की जगह और नागरिक जानता है कि उस क्षण फ्लाईओवर पर पीएम काफिले के पास लोगों के वीरों को भिजवाया गया और रुकवाया गया। इस लापरवाही का जवाब पंजाब की कांग्रेस सरकार को देना ही होगा।
 

            केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस के लोगों पर आरोप लगाते हुए कहा कि कॉन्ग्रेस लोगों की ज्योत की बात कर रही है तो किस बात का क्या पीएम के मौत के कगार पर ले जाने का जोश है। स्मृति ईरानी ने कहा कि मुझे इस बात का आक्रोश है सुरक्षाकर्मियों ने उस समय पंजाब सरकार से संपर्क साधने की कोशिश की तो पंजाब सरकार के मुख्यमंत्री ने फोन तक नहीं उठाया। इस वजह से प्रधानमंत्री ने एयरपोर्ट पहुंचकर कहा कि मुख्यमंत्री को बता दीजिएगा कि मैं एयरपोर्ट जिंदा लौट आया हूं।
              स्मृति ईरानी ने कहा कि यह पूरा घटना एक साजिश है जो लोग इस साजिश का हिस्सा है मेरा विश्वास है न्याय होगा। विरोधियों  को मेरा कहना है बैर नरेंद्र मोदी से है देश के प्रधानमंत्री से नहीं।इस सारी घटना का जवाब पंजाब सरकार देगी या कांग्रेस पार्टी देगी। जो फोन पर नहीं आये वो अब टीवी पर आयेंगे। उनकी कितनी काबलियत है पंजाब के प्रदेश अध्यक्ष से पूछिये।