home page

रेल में सफर करना हुआ महंगा, ट्रेन का टिकट बुक करने पर अब देनी होगी स्टेशन डेवलपमेंट फीस

 | 
रेल में सफर करना हुआ महंगा, ट्रेन का टिकट बुक करने पर अब देनी होगी स्टेशन डेवलपमेंट फीस

नई दिल्ली । रेल का सफर जल्द ही महंगा होने वाला है। ट्रेन में टिकट बुक करने के लिए 50 रुपए तक ज्यादा देने होंगे। रेल मंत्रालय ने नए सिरे से विकसित किए गए रेलवे स्टेशनों पर स्टेशन डेवलपमेंट फीस वसूलने का फैसला किया है।
          रेलवे के मुताबिक यह फीस अलग-अलग क्लास से यात्रियों के लिए अलग-अलग होगी। उपनगरीय और सीजन टिकट को इससे अलग रखा गया है। यह फीस उस स्टेशन से रेल में चढऩे और उस स्टेशन पर उतरने वाले यात्रियों से वसूली जाएगी। हालांकि ये किन स्टेशनों के लिए और कब से लागू होगा इसकी जानकारी अभी नहीं दी गई है। इसके तहत जिन रेलवे स्टेशनों का रीडेवलपमेंट हो चुका है उनके लिए यात्रियों से 10 रुपए से 50 रुपए तक का चार्ज वसूला जाएगा। यात्रियों से ऐसे स्टेशनों से ट्रेन में चढऩे या उतरने दोनों पर स्ष्ठस्न लिया जाएगा और इसको यात्रा टिकट में जोड़ा जाएगा, जिससे टिकट महंगे होंगे। यह कदम रेलवे को और स्टेशनों के रीडेवलपमेंट के लिए पैसा जुटाने में मदद करने के लिए है।
     

 अनरिजर्व्ड पैसेंजरों के लिए यह फीस 10 रुपए होगी। इसी तरह रिजर्व्ड नॉन-एसी यात्रियों के लिए 25 रुपए, रिजर्व्ड एसी पैसेंजर्स के लिए 50 रुपए होगी।इतना ही नहीं प्लेटफॉर्म टिकट खरीदने वालों को भी इसके लिए 10 रुपए चुकाने होंगे। उतरने वाले यात्रियों के लिए यह राशि उक्त दरों की 50 प्रतिशत होगी। अगर कोई यात्री ऐसे किसी रेलवे स्टेशन से चढ़ता है और ऐसे ही स्टेशन पर ही उतरता है तो उस स्थिति में एसडीएफ एप्लिकेबल रेट का 1.5 गुना होगा।
        एसडीएफ यानी यूजर फीस लगने से ट्रेन का किराया महंगा हो जाएगा। उदाहरण के लिए अगर कोई यात्री नई दिल्ली से मुंबई जाता है तो उसे दोनों स्टेशनों के लिए यूजर फीस चुकानी होगी। लेकिन कोई यात्री छोटे स्टेशनों से नई दिल्ली या मुंबई का टिकट बुक कराता है तो उसे नॉर्मल चार्ज का 50 प्रतिशत ही यूजर फीस के रूप में देना होगा। सूत्रों के मुताबिक शुरुआत में 50 स्टेशनों में यह व्यवस्था शुरू की जा सकती है।
   

  रेलवे कई स्टेशनों को रिडेवलप (पुनर्विकसित) करने की योजना पर काम कर रहा है। इन स्टेशनों पर उपलब्ध सुविधाओं के लिए यात्रियों को हवाई अड्डों पर लगने वाले यूजर डेवलपमेंट फीस की तरह अलग से शुल्क देना होगा।