home page
up abtk

प्रेमी के साथ मिलकर पत्नी ने की थी पति की हत्या, चार गिरफ्तार

अयोध्या । बैसिंहपुर के पास नहर में 02 अक्टूबर को बोरे में मिली लाश मामले...
 | 
प्रेमी के साथ मिलकर पत्नी ने की थी पति की हत्या, चार गिरफ्तार

अयोध्या । बैसिंहपुर के पास नहर में 02 अक्टूबर को बोरे में मिली लाश मामले का गुरूवार को एसएसपी ने पर्दाफाश कर दिया। जिसमें पहली पत्नी ने ही प्रेमी के साथ मिलकर मौत के घाट उतार दिया। घटना के खुलासे में एसएसपी शैलेश कुमार पांडेय ने विस्तार से जानकारी दी।
बताया कि 24 सितम्बर 21 को थाना कोतवाली अयोध्या में नीलम पत्नी अरमान निवासी जयसिंहपुर मंगता का पुरवा थाना कोतवाली अयोध्या ने पति अरमान (35 वर्ष) की बाबत सूचना दी। जिसमें कहा कि 22 सितम्बर को दिन में 10 बजे घर से कचेहरी के लिए जाने की बात कहकर निकले थे। जो वापस नहीं लौटे। जांच के दौरान ही गुमशुदा अरमान का शव 02 अक्टूबर की सुबह ग्राम बैसिंहपुर थाना पूराकलन्दर स्थित नहर में एक बोरे व पालीथीन में बरामद हुआ। मृतक अरमान की पत्नी नीलम ने थाना पूराकलन्दर को इसकी सूचना दी। जिसके बाद शव का पोस्टमार्टम कराया गया। जिसके बाद पत्नी नीलम की तहरीर पर भीम व रोशन निवासी सरेठी, लुबुन्नू उर्फ अनिल निवासी ददेरा थाना पूराकलन्दर व मौजीराम निवासी चिथडिय़ा नाका थाना कोतवाली नगर जनपद अयोध्या पर हत्या का मुकदमा पंजीकृत कराया।
घटना के खुलासे के लिए एसएसपी के निर्देश पर कोतवाली अयोध्या व स्वाट/सर्विलांस की संयुक्त टीम गठित की गई। एसपी सिटी के निर्देशन व सीओ सिटी के पर्यवेक्षण में गठित टीम ने घटना का खुलासा किया। बताया कि मृतक की पत्नी नीलम से कड़ाई से पूछताछ में रहस्य से पर्दा उठा। जिसके बाद चारों अभियुक्तों को अलग अलग स्थानों से गिरफ्तार किया गया।
पूछताछ में नीलम पत्नी अरमान ने बताया कि उसके तथा नामजद अभियुक्त भीम के बीच कई वर्षों से आंतरिक सम्बन्ध हैं। पति ने 03 वर्ष पहले दूसरी लड़की खुशी से शादी कर ली थी। नीलम उपेक्षित होकर अपने मायके आशापुर में ही रहती थी और भीम के साथ शादी करना चाहती थी। किन्तु पति अरमान के जिन्दा रहते सम्भव नही था। दूसरा कारण अभियुक्त भीम अपने छोटे भाई जिद्दी की पत्नी लक्ष्मी की वर्ष 2019 में घर में ही गोली मारकर हत्या कर दी थी। भीम जेल गया तो अपनी जमानत के लिए अरमान को काफी रुपये दिए पर अरमान न तो जमानत कराया और न ही पैसे वापस किये। जिससे मनमुटाव हो गया। घटना के दिन भीम व अभियुक्ता नीलम ने योजना बनाकर अपने गांव सरेठी बुलाया। जहां 22 सितम्बर को भीम व उसके तीन भाई व बहनोई लुबुन्नू के द्वारा घर में ही गला दबाकर हत्या कर दी गई। अंधेरा होने पर शव को बोरे व पालीथीन में रखकर बैसिंहपुर थाना पूराकलन्दर के पास नहर में फेंक दिया गया था। मृतक की मोटरसाइकिल को भीम के दो भाई ले जाकर गोसाईगंज थाना क्षेत्र में ग्राम अमसिन के पास लावारिस छोड़ दिए। अभियुक्त की निशादेही पर बरामद किया गया। घटना में नामजद मौजीराम की संलिप्तता नही मिली। जबकि दो अन्य शामिल रहे। जिसमें मृतक की पत्नी नीलम के अलावा रोशन, सूरज दोनों निवासी सरेठी, लुबुन्नू उर्फ अनिल निवासी ददेरा थाना पूराकलन्दर जनपद अयोध्या शामिल हैं।