home page

27 को भारत बंद, किसानों ने किया ऐलान, कृषि कानून को रद्द करने की मांग

लखनऊ। राजधानी के इंदिरा नगर में शुक्रवार को भारतीय किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष हरनाम सिंह...
 | 
27 को भारत बंद, किसानों ने किया ऐलान, कृषि कानून को रद्द करने की मांग

लखनऊ। राजधानी के इंदिरा नगर में शुक्रवार को भारतीय किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष हरनाम सिंह ने लखनऊ में प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि किसानों की 2 दिन से इंदिरा नगर में बैठक चल रही है। इस सभा में आंदोलन को तेज करने की बात हुई ।
बता दें कि कांफ्रेंस में 85 से ज्यादा किसान संगठन ने हिस्सा लिया। सभी की सहमति से ये निर्णय लिया गया है कि 17 सितंबर को हर शहर और गांव में आंदोलन होगा। सरकार को काले झंडे दिखाए जाएंगे। 27 सितंबर के बाद उत्तर प्रदेश के सभी 18 कमिश्नरी और 75 जिलों में बड़ी बड़ी रैली की जाएगी। जब तक तीनों कृषि कानून को रद्द नहीं किया जाता तब तक आंदोलन जारी रहेगा।संयुक्त किसान मोर्चा 27 सितंबर के भारत बंद को सबसे ज्यादा यूपी में सफल बनाने में जुट गया है। इसको लेकर उप्र के छोटे – बड़े 40 से ज्यादा संगठन एक मंच पर आ चुके हैं। पिछले दो दिन से लखनऊ में इसको लेकर किसान आंदोलन के नेताओं ने बैठक की और आंदोलन की रणनीति बनाई । बताया जा रहा है कि पश्चिम के बाद अब पूर्वी यूपी में भी आंदोलन की रफ्तार को तेज किया जाएगा।
यूपी किसान सभा के सचिव मुकुट सिंह का दावा है कि 27 सितंबर को लेकर सभी संगठन जिलों में तैयारी कर रहे हैं। उनका कहना है कि इस बार भारत बंद के दौरान सबकुछ बंद रहेगा। पिछली बार से कई गुना बड़ा आंदोलन होगा। इस संदर्भ में श्रम संगठन, कर्मचारी संगठन, छात्र, नौजवान और महिला संगठनों से भी बात चल रही है। ज्यादातर लोगों ने समर्थन देने का आश्वासन भी दिया है। ऐसे में बंदी ऐतिहासिक होने वाली है।