home page

गरीब रेलगाड़ी से न चल सके इसलिए सिसवा रेलवे स्टेशन से नहीं चलायी जा रही हैं पैसेंजर ट्रेनें:पूर्व मंत्री सुशील टिबड़ेवाल

 | 
गरीब रेलगाड़ी से न चल सके इसलिए सिसवा रेलवे स्टेशन से नहीं चलायी जा रही हैं पैसेंजर ट्रेनें:पूर्व मंत्री सुशील टिबड़ेवाल

सिसवा बाजार-महराजगंज।  सिसवा नगर स्थित केडिया धर्मशाला में आज मंगलवार को सिसवा ब्लॉक के अंतर्गत आने वाले समाजवादी पार्टी के  सेक्टरों के बूथ अध्यक्षों का सम्मेलन सम्पन्न हुआ। सम्मेलन के मुख्य अतिथि 317, सिसवा विधानसभा के समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता और उत्तर प्रदेश सरकार के पूर्व मंत्री सुशील कुमार टिबड़ेवाल रहे। जबकि अध्यक्षता सपा के सिसवा विधानसभा के अध्यक्ष और प्रधान संघ के पूर्व जिलाध्यक्ष विद्या सागर यादव ने की। 
   बूथ अध्यक्षों को संबोधित करते हुए श्री टिबड़ेवाल ने कहा कि युवाओं के भरोसे सपा 2022 का चुनाव सिसवा विधानसभा से जीतेगी। सपा की जीत में नौजवानों की सबसे अहम भूमिका होगी।
   

  श्री टिबड़ेवाल ने कहा कि क्या कारण है कि सिसवा रेलवे स्टेशन से लंबे वक्त से पैसेंजर ट्रेनें नहीं चलायी जा रही हैं। गरीब मेल और एक्सप्रेस ट्रेन का भाड़ा वहन नहीं कर सकता इसलिए वह पैसेंजर ट्रेन से चलना चाहता है लेकिन केन्द्र की भाजपा सरकार ने गरीबों के उत्पीड़न के लिए पैसेंजर ट्रेनें बंद कर दी है। इसको लेकर गरीब ग्रामीण जनता में भारी आक्रोश है और आने वाले 2022 के चुनाव में जनता भाजपा से इसका बदला लेगी।
    श्री टिबड़ेवाल ने यह भी कहा कि सभी समाजवादी साथियों को सोशल मीडिया पर अधिक से अधिक सक्रिय रहना है औऱ पार्टी तथा पार्टी के प्रत्याशी के प्रचार गतिविधियों को आम जनता तक अधिक से अधिक पहुंचाना है। 
   सपा के सिसवा विधानसभा के अध्यक्ष और प्रधान संघ के पूर्व जिलाध्यक्ष विद्या सागर यादव ने कहा कि हमारा लक्ष्य है कि सिसवा विधानसभा से सपा प्रत्याशी को भारी मतों से जीताना। जब हम इस लक्ष्य को पायेंगे तभी अखिलेश यादव के नेतृत्व में सपा की सरकार उत्तर प्रदेश में बनेगी।  
   

 कड़ाके की ठंड औऱ गलन के बावजूद बैठक में सेक्टर प्रभारी, सेक्टर सह-प्रभारी, सिसवा ब्लाक के बूथ अध्यक्ष मौजूद रहे। इनमें प्रमुख रुप से महासचिव कैलाश प्रजापति, वरिष्ठ सपा नेता शिब्बू बनारसी, युवा नेता यश त्रिपाठी, सिसवा के वरिष्ठ सपा नेता शैलेश अग्रवाल, पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के सिसवा विधानसभा अध्यक्ष भोजराज साहनी, कृष्णा रौनियार, धर्मेन्द्र त्रिपाठी, सत्य नारायण, महेन्द्र यादव, घनश्याम, संजय पटवा, करामत अली, अनिरुद्ध यादव, नरसिंह यादव, बनवारी यादव, ठगई, कृष, आरिफ अली, नीतिश अग्रवाल, उदित मित्तल, श्रीनिवास विश्वकर्मा, सुल्तान अली, संतोष यादव, रमाशंकर यादव, अलाउद्दीन, मुनेश, सुभाष यादव, मोहम्मद इसराइल, लक्ष्मी, महेन्द्र यादव, राधेश्याम यादव, ताहिर अली, रमेश, विनोद यादव, विजयराम बंजारा, श्याम बदन आदि मौजूद रहे।