May 22, 2024
चैत्र पूर्णिमा एवं हनुमान जयंती के अवसर पर 129वीं नारायणी गंडकी महाआरती कार्यक्रम का हुआ आयोजन

वाल्मीकिनगर-बिहार। भारत नेपाल सीमा पर अवस्थित बेलवा घाट परिसर में चैत्र पूर्णिमा एवं हनुमान जयंती के पावन अवसर पर 129वीं नारायणी गंडकी महाआरती कार्यक्रम का आयोजन किया गया। स्वरांजलि सेवा संस्थान द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम का शुभारंभ समवेत स्वर में पर्यावरण गीत के साथ किया गया। तत्पश्चात मुख्य अतिथि सहायक कमांडेंट मोहित सिंह, विशिष्ट अतिथि एचेल थारू, स्वरांजलि सेवा संस्थान के एम.डी संगीत आनंद, राष्ट्रीय अध्यक्षा अंजू देवी, यूट्यूबर जयदेव कुमार, अभिनेता सोनू चौधरी, आचार्य पंडित अनिरुद्ध दूबे,एवं समाजसेवी भारत कुमार ने संयुक्त रूप से महा आरती दीप प्रज्ज्वलित किया।

चैत्र पूर्णिमा एवं हनुमान जयंती के अवसर पर 129वीं नारायणी गंडकी महाआरती कार्यक्रम का हुआ आयोजन

मुख्य अतिथि मोहित सिंह ने बताया कि ग्लोबल वार्मिंग खतरे की घंटी बजा रही है। प्रकृति ने जो हमें वरदान दिया है उन्हें सहेज कर रखने की जरूरत है।यह जानकर खुशी हुई की पर्यावरण संरक्षण संवर्धन के प्रति जन जागरूकता हेतु इस महा आरती का आयोजन विगत कई वर्षों से किया जा रहा है। विशिष्ट अतिथि एचेल थारू ने बताया कि यहां तीन नदियों का संगम है। इस पवित्र गंडक नदी को सदा नीरा भी कहते हैं। क्योंकि इसमें सालों भर पानी रहता है।

चैत्र पूर्णिमा एवं हनुमान जयंती के अवसर पर 129वीं नारायणी गंडकी महाआरती कार्यक्रम का हुआ आयोजन

अभिनेता सोनू चौधरी ने बताया कि क्षेत्र के प्रतिभाशाली कलाकारों को भी इस महा आरती के द्वारा एक मंच प्रदान किया जाता है।यूट्यूबर जयदेव कुमार ने कहा कि संस्था द्वारा नवोदित कलाकारों को निः शुल्क प्रशिक्षण दिया जाता है। समाजसेवी भारत कुमार ने कहा कि जल जीवन हरियाली इस दुनिया के लिए जरूरी है। इसके लिए हर व्यक्ति को प्रकृति और पर्यावरण को सुरक्षित रखने का संकल्प लेना चाहिए।

राष्ट्रीय अध्यक्षा अंजु देवी ने कहा कि संस्था द्वारा मानवीय संवेदनाओं को महसूस करते हुए हर दिन लावारिस दिव्यांग, जरूरतमंदों एवं मानसिक बीमारों हेतु दैनिक चलंत दरिद्र नारायण भोज का आयोजन किया जाता है। आचार्य पंडित अनिरुद्ध दूबे ने कहा कि चैत्र पूर्णिमा का अपना विशेष महत्व है। कलयुग के साक्षात देवता कहे जाने वाले हनुमान जी महाराज का आज जन्मोत्सव भी है। इस पवित्र चौत्र महीने में हम रामनवमी का त्यौहार भी हर साल मनाते हैं।

संगीत आनंद ने कहा कि 6 नवंबर 2014 से इसी गंडक नदी के तट से इस महा आरती की शुरुआत की गई थी। सशस्त्र सीमा बल 21 वीं वाहिनी के कमांडेंट श्री प्रकाश समेत समय-समय पर कार्यक्रम में भाग लेने वाले अधिकारियों के प्रति आभार प्रकट किया गया। इस कार्यक्रम में विशेष सहयोग प्रदान करने के लिए अमेरिका वासी संस्था के संरक्षक,भक्त कृष्णा पांडे, स्वास्थ्यकर्मी कुमारी संगीता, विजय कुमार, निर्माता अरविंद अकेला, आदि ने कार्यक्रम के आयोजन में विशेष सहयोग प्रदान किया।

इस मौके शिव शिष्या पिंकी देवी, रंजीता देवी, मीरा देवी, सीमा देवी, एडिटर स्वरांजलि, बाल कलाकार सुधि स्वरा सिंह, मास्टर मन्नू देव,तूफानी ठाकुर, आदि की भूमिका सराहनीय रही। वृक्ष की रक्षा मानव रक्षा ,जल जीवन हरियाली, देगी हमें खुशहाली, गंगा मैया की जय, हनुमान जी महाराज की जय आदि नारों से कार्यक्रम स्थल गुंजायमान होता रहा। विश्व शांति समृद्धि एवं खुशहाली हेतु कथा पूजा एवं हवन करके पर्यावरण की रक्षा का संकल्प लिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!