February 22, 2024
Drug Injection Seizure - सिसवा में नशीली इंजेक्शन बरामदगी मामले में आया नया मोड़, निर्दोश को फंसाने का लगा आरोप, किया प्रदर्शन

Drug Injection Seizure – सिसवा बाजार-महाराजगंज। सिसवा नगर में पिछले शनिवार की रात एसओजी, स्वाट व पुलिस की टीम की छापेमारी में भारी मात्रा में नशीली इंजेक्शन बरामद Drug Injection Seizure हुआ, इस मामले में पुलिस ने चार लोगों के विरुद्ध मामला दर्ज कर जेल भेज दिया लेकिन आज गोपाल नगर में लोगों ने विरोध प्रदर्शन कर निर्दोश को भी जेल भेजने का अरोप लगाते हुए बरामदगी की कहानी पर ही सवाल उठा दिया है।

Drug Injection Seizure - सिसवा में नशीली इंजेक्शन बरामदगी मामले में आया नया मोड़, निर्दोश को फंसाने का लगा आरोप, किया प्रदर्शन

बताते चले 23 दिसम्बर की शाम एसओजी, स्वाट टीम व स्थानीय पुलिस ने सिसवा नगर के गोपाल नगर स्थित राज वैष्णो मेडिकल एजेंसी पर छापेमारी किया जहाँ से भरी मात्रा में नशीली इंजेक्शन बरामद हुआ।
लेकिन पुलिस ने जो मामला दर्ज किया है उसके अनुसार मुखबिर की सूचना पर गोरखपुर की तरफ से समय 19ः40 बजे बस से गोपाल नगर तिराहे पर उतरकर बगल में स्थित राज वैष्णव मेडिकल एजेंसी पर जाते समय चार लोग जो अपने अपने हाथ मे अलग अलग एक एक झोला लिए थे घेर कर पकड़ लिया गया, चारों बैगों के बारे में पूछताछ व तलाशी सीओ निचलौल के समक्ष की गई तो बैग के अंदर नशीली इंजेक्शन प्राप्त हुई।

Drug Injection Seizure - सिसवा में नशीली इंजेक्शन बरामदगी मामले में आया नया मोड़, निर्दोश को फंसाने का लगा आरोप, किया प्रदर्शन

इस मामले में पुलिस ने विवेकानंद मल्ल पुत्र शंकर प्रसाद मल्ल निवासी विवेकानंद नगर सिसवा बाजार, मो0 सद्दाम पुत्र कमरुद्दीन निवासी गोपाल नगर, अनुराग जायसवाल पुत्र अनिल जायसवाल निवासी रेलवे स्टेशन रोड प्रेमलाल सिंघानिया गली व जहीर खान पुत्र स्वर्गीय मुन्ना खान निवासी विवेकानंद नगर के विरुद्ध एनडीपीएस एक्ट में मामला दर्ज कर जेल भेज दिया।
इस मामले में आज दोपहर गोपाल नगर में महिलाओं सहित सैकड़ों की संख्या में लोगों ने बरामदगी को सही लेकिन पुलिस की कहानी को गलत बताते हुए निर्दोश को भी जेल भेजने का आरोप लगाते हुए पुरे मामले की सही ढ़ग से जांच कर निर्दोश को बरी की मांग किया है।

सैकड़ो की संख्या में गोपाल नगर में किया प्रदर्शन
नशीली दवा बरामदगी में निर्दोश को फंसाने का अरोप लगाते हुए महिलाओं सहित सैकड़ों की संख्या में लोगों ने न्याय करने की मागं करते हुए मुख्य मंत्री को एक पत्र भी लिखा है जिसमें कहा है कि पुलिस ने राज वैष्णों मेडिकल स्टोर पर छापेमारी कर चार लोगों को अपने साथ ले गयी, और यहां एक पीकअप से दवा उतारी गयी थी लेकिन पुलिस बस से उतर कर दवा लेकर जा रहे चार युवकों से बरामदगी दिखा रही है जो गलत है,
पुलिस ने इस मामले में सद््दाम पुत्र कमरूदद्ीन जो नाबालिक है और बीएससी प्रथम वर्ष का छात्र है जिसकी उम्र 17 साल 6 माह है उसे प्रशासन ने जबरदस्ती अपने साथ ले जाकर बराबर का अपराधी घोषित कर जेल भेज दिया।

पीकअप से आयी थी दवा लेकिन पुलिस ने बस से दिखाया
प्रदर्शनकारियों ने जो पत्र मुख्यमंत्री को लिखा है उसमें साफ लिखा है कि पुलिस ने जहां से नशीली दवाओं की बरामदगी की है उस दुकान पर एक पीकअप पहुंची और उसी पीकअप से दवा उतारी गयी जिसकें बाद पुलिस ने पकड़ा जो आस-पास लगे सीसीटीवी कैमरों में कैद है लेकिन पुलिस ने फर्जी रूप से बस से उतरने की कहानी बना दी, जो जांच का विषय है।

इस दौरान धर्मनाथ खरावार एसटी मोर्चा कार्यसमिति सदस्य उत्तर प्रदेश भाजपा, अ0हिन्दु परिषद प्रान्त अध्यक्ष विपुल कुमार, भाजपा नेता अमरेन्द्र मल्ल, मदन राजभर एमएलसी प्रतिनिधि, कुष्णानन्द पूरी नि0वर्तमान जिला सहसंयोजक हि0यू0वा0, व डीसीएफ डायरेक्टर, सभासद प्रतिनिधि हासिम अंसारी, गणेश खरवार जिला उपाध्यक्ष ओबीसी भाजपा, राकेश कन्नौजिया जिला महामंत्री अनु0मो0 भाजपा सहित सैकड़ों की सख्या में लोग उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!