May 22, 2024
सिसवा में सिचाई विभाग की जमीन पर दशकों से अवैध कब्जा, लहलहा रही है धान की फसल, सूचना मांगने वाले को मिली धमकी

सिसवा बाजार-महराजगंज। सिसवा क्षेत्र के बेलवा में सिंचाई विभाग की जमीन पर दशकों से कब्जा कर खेती किये जाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है, यह मामला उस समय खुला जब इस मामले में जनसूचना से जानकारी मांगी गयी, सूचना मांगने वाले का आरोप है कि जब वह सूचना मांगा तो अवैध कब्जा हटाने की जगह धमकी दी जाने लगी।

सिसवा में सिचाई विभाग की जमीन पर दशकों से अवैध कब्जा, लहलहा रही है धान की फसल, सूचना मांगने वाले को मिली धमकी

सिसवा क्षेत्र के बेलवा में 1976 में चकबंदी/बन्दोबस्त के बाद बड़ी नहर के बगल मे खाता संख्या 00327, खसरा संख्या 2, क्षेत्रफल हे. 0.4090 सिचाई विभाग की जमीन है, जहां हर साल फलस लहलाती रहती है, यह जानकारी मिलते ही मो0 शमीम अंसारी ने जनसूचना से सिचाई विभाग की जमीन के विषय में जानकारी मांगी।

मो0 शमीम के अनुसार जब उन्होंने जनसूचना अधिकार अधिनियम के तहत सूचना मांगी कि वर्षों बाद भी विभाग द्वारा अवैध कब्जा अतिक्रमण को हटाने की कार्यवाही नही की गयी और न ही कोई सूचना उपलब्ध कराई गयी, इस के बाद कुछ लोग सूचना मांगने पर धमकी दे रहे है।
उन्होंने कहा 1976 में चकबंदी/बन्दोबस्त के बाद बड़ी नहर के बगल मे खाता संख्या 00327, खसरा संख्या 2, क्षेत्रफल हे. 0.4090 सिचाई विभाग की जमीन है, आखिर वह कौन है जो चकबंदी के बाद आज तक हर साल खेती करता चला आ रहा है और विभाग चुप्पी लगाये हुए है।

किस के शह पर सिचाई विभाग की जमीन पर है पांच दशक से है अवैध कब्जा
सिसवा क्षेत्र के बेलवा में खाता संख्या 00327, खसरा संख्या 2, क्षेत्रफल हे. 0.4090 सिचाई विभाग की लगभग एक एकड़ जमीन बताई जा रही है, जैसा कि आरोप है ऐसे मे सवाल यह उठता है कि 1976 में चकबंदी/बन्दोबस्त के बाद से आज तक हर साल उस जमीन पर कभी गेहूं तो कभी धान की फसल बोने के बाद काटी जाती है, इस समय उस जमीन पर धान की फसल लहलहा रही है, यह खेल किस के शह पर चल रहा है।

क्या हटेगा कब्जा
सिचाई विभाग की जमीन पर अवैध कब्जा कर खेती का मामला सामने आने के बाद अब सवाल उठने लगा है कि क्या सिचाई विभाग के अधिकारी अपने जमीन से अवैध कब्जा हटाएंगे और कब्जा करने वालो पर कार्यवाही करेंगे या फिर…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!