April 14, 2024
महिला टीचर की शर्मनाक करतूत, क्लास में मुस्लिम छात्र को अन्य छात्रों से पिटवाया, वीडियो वायरल, मामला दर्ज

मुजफ्फरनगर। स्कूल में एक महिला शिक्षक की शर्मनाक करतूत सामने आयी है, इस करतूत की वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है। इस वीडियो में एक महिला शिक्षक एक बच्चे को क्लास के ही बाकी बच्चों से एक-एक कर पिटवाया जा रहा है। महिला टीचर का नाम तृप्ति त्यागी है, वीडियो वायरल होते ही विपक्षी पार्टियां बीजेपी सरकार पर हमलावर हो गई हैं, वीडियो वायरल होने के बाद टीचर के खिलाफ बच्चे के पिता की तहरीर पर केस दर्ज कर लिया गया है।

वीडियो नेहा पब्लिक स्कूल का बताया जा रहा है, वीडियो में सुना जा सकता है कि अध्यापिका तृप्ति त्यागी ने एक मुस्लिम छात्र को कक्षा में खड़ा करके अन्य छात्रों द्वारा पीटने के लिए कहती सुनाई दे रही हैं। फिलहाल वीडियो वायरल होते ही पुलिस ने आरोपी टीचर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। पीड़ित छात्र के पिता की तहरीर पर पुलिस ने आईपीसी की धारा 323, 504 के तहत मुकदमा दर्ज किया हैं।

महिला टीचर की शर्मनाक करतूत, क्लास में मुस्लिम छात्र को अन्य छात्रों से पिटवाया, वीडियो वायरल, मामला दर्ज
महिला टीचर की शर्मनाक करतूत

इस वीडियो के सामने आने के बाद कई बड़े नेताओं ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने वीडियो को सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए लिखा कि मासूम बच्चों के मन में भेदभाव का जहर घोलना, स्कूल जैसे पवित्र स्थान को नफरत का बाजार बनाना- एक शिक्षक देश के लिए इससे बुरा कुछ नहीं कर सकता।

आरएलडीनेता जयंत चौधरी ने कहा मुज़फ़्फ़रनगर स्कूल का वीडियो एक दर्दनाक चेतावनी है, कि कैसे गहरी जड़ें जमा चुके धार्मिक विभाजन हाशिये पर पड़े अल्पसंख्यक समुदायों के ख़िलाफ़ हिंसा को भड़का सकते हैं, मुज़फ़्फ़रनगर के हमारे विधायक यह सुनिश्चित करेंगे कि यूपी पुलिस स्वतः मामला दर्ज करे और बच्चे की शिक्षा बाधित न हो, जयंत चौधरी ने पीड़ित छात्र के पिता से बात की।

वहीं, महिला टीचर ने कहा कि बच्चे के पिता उसको पीटते हुए स्कूल लाए थे। पिता ने कहा था कि ये कुछ काम नहीं करता है। इसे ठीक कर दो। मैं विकलांग हूं, उठ नहीं सकती, इसलिए क्लास के बच्चों से उसे पिटवा दिया। बच्चे को मारने वाले कुछ छात्र भी उसी विशेष समुदाय से हैं। महिला टीचर ने कहा कि जो वीडियो वायरल हो रहा है, उसे एडिट किया है। हालांकि मुझे बच्चों से उसे नहीं पिटवाना चाहिए था। मैं अपनी गलती मानती हूं। मेरा सांप्रदायिक भेदभाव का कोई इरादा नहीं था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!