April 14, 2024
श्रावणी पूर्णिमा पर भव्य 120वीं नारायणी गंडकी महाआरती कार्यक्रम का हुआ आयोजन

वाल्मीकिनगर। भारत नेपाल सीमा पर अवस्थित संगम तट के बेलवा घाट परिसर में श्रावणी पूर्णिमा के अवसर पर भव्य 120 वीं नारायणी गंडकी महाआरती कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

श्रावणी पूर्णिमा पर भव्य 120वीं नारायणी गंडकी महाआरती कार्यक्रम का हुआ आयोजन
120वीं नारायणी गंडकी महाआरती

स्वरांजलि सेवा संस्थान एवं थारू कला संस्कृति के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित इस कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि सशस्त्र सीमा बल 21 वीं वाहिनी के कमांडेंट श्री प्रकाश, विशिष्ट अतिथि डिप्टी कमांडेंट उमाशंकर नशाना, मुख्य प्रवचन कर्ता काठमांडू नेपाल से आए धर्मपाल गुरु वशिष्ट जी महाराज, कस्टम अधीक्षक के.के मिश्रा, समाजसेवी संगीत आनंद,थारू कला संस्कृति के सचिव होम लाल प्रसाद , थरुहट के कैमरामैन शुभम नीरज , जनी फाउंडेशन की अध्यक्षा लक्ष्मी खत्री, इंजीनियर विनय प्रताप सिंह, इंस्पेक्टर प्रदीप कुमार मंडल एवं आचार्य पंडित उदयभानु चतुर्वेदी ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित करके किया ।

श्रावणी पूर्णिमा पर भव्य 120वीं नारायणी गंडकी महाआरती कार्यक्रम का हुआ आयोजन
120वीं नारायणी गंडकी महाआरती

मुख्य अतिथि श्री प्रकाश ने संबोधन के क्रम में कहा कि हमारी सभ्यता और संस्कृति नदियों के किनारे ही विकसित हुई है । ताम्रभद्र ,सोनभद्र और गंडकी यहां तीन नदियों का संगम है। बेलवा घाट का सौंदर्यीकरण बहुत जरूरी है । यह नारायणी गंडकी महा आरती वाल्मीकि नगर की पहचान बनती जा रही है। डिप्टी कमांडेंट श्री उमाशंकर ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण संवर्धन के प्रति लोगों में जन जागरूकता पैदा करने की दिशा में यह महा आरती संजीवनी बूटी का काम कर रही है। इस महा आरती द्वारा लोगों को जागरूक किया जा रहा है ।

इंजीनियर विनय प्रताप सिंह ने बताया कि नदियां जीवन दायिनी है । वर्तमान सरकार द्वारा वाल्मीकि नगर को सुंदरतम बनाने की लगातार कोशिश की जा रहे हैं। काठमांडू नेपाल से आए धर्मपाल गुरु वशिष्ठ जी महाराज ने कहा कि श्रावणी पूर्णिमा के दिन इस पवित्र नदी के तट पर कथा पूजा अर्चना करने से जीवन धन्य हो जाता है।

उन्होंने कहा कि इस नारायणी नदी में शालिग्राम देवता पाए जाते हैं ,जो साक्षात विष्णु भगवान के रूप हैं। कस्टम अधीक्षक के.के मिश्रा ने स्वरांजलि सेवा संस्थान की तारीफ करते हुए कहा कि इस संस्था द्वारा विगत 11 वर्षों से घूम घूम कर लावारिस दिव्यांग जनों को हर दिन , निःशुल्क भोजन दिया जाता है। मानव सेवा सच्ची ईश्वर की सेवा है।

समाजसेविका लक्ष्मी खत्री ने कहा कि आदि कवि महर्षि वाल्मीकि की तपोभूमि पर इस तरह का आध्यात्मिक कार्यक्रम अपनी विशिष्ट पहचान रखता है। गायिका नीलम कुमारी ,रेशमा थारू ,गायक नंदकुमार महतो, गायिका हिरवंती देवी, गायक विश्वनाथ राय की मनभावन प्रस्तुतियों ने सबका मन मोह लिया।

यूट्यूबर लक्ष्मी थारू एवं रेशमा थारू ने बताया कि हम सभी नारायणी गंडकी महा आरती में आगे भी आते रहेंगे, क्योंकि यहां आने से मन को शांति मिलती है। आचार्य पंडित उदय भानु चतुर्वेदी ने कहा कि श्रावणी पूर्णिमा भगवान शिव को समर्पित है। भाई-बहन का महान पवित्र त्यौहार रक्षाबंधन भी श्रावणी पूर्णिमा के दिन ही मनाया जाता है। नारायणी गंडकी माता की महा आरती की शुरुआत 6 नवंबर 2014 से वाल्मीकि नगर में की गई है ।

स्वरांजलि सेवा संस्थान के एम डी संगीत आनंद ने कहा कि लावारिस दिव्यांगजनों की सेवा, पर्यावरण संरक्षण संवर्धन के प्रति लोगों में जन जागरूकता पैदा करना , प्राकृतिक धरोहरों की रक्षा करना, निःशुल्क कला का प्रशिक्षण देकर कलाकारों को स्वावलंबी बनाना आदि संस्था का मुख्य उद्देश्य है। बिहार के लोकप्रिय आईपीएस अधिकारी विकास वैभव के विशिष्ट सामाजिक कार्यों की भूरि भूरि प्रशंसा की गई। लेट्स इंस्पायर बिहार के सौजन्य से महा प्रसाद का इंतजाम किया गया। स्वरांजलि सेवा संस्थान और कुमार फाउंडेशन के सौजन्य से जरूरतमंदों के बीच पौष्टिक आहार न्यूट्री मिक्स फूड पैकेट का निःशुल्क वितरण किया गया। मंच संचालन संगीत आनंद ने किया, जबकि धन्यवाद ज्ञापन होमलाल प्रसाद ने किया।

इस मौके पर सत्येंद्र सिंह ,चंदन कुमार, चंद्रभान कुमार, गायक विश्वनाथ राय ,वनकर्मी अनमोल कुमार, स्वरांजलि सेवा संस्थान की राष्ट्रीय अध्यक्षा अंजू देवी, बेंगलुरु से आए अतिथि सुधीर कुमार, एवम् इंस्पेक्टर प्रदीप कुमार मंडल की भूमिका सराहनीय रही। नारायणी गंडकी माता की जय ,गंगा मैया की जय, वाल्मीकि धाम की जय त्रिवेणी धाम की जय आदि नारों से वाल्मीकि नगर गुंजायमान होता रहा । डी आनंद द्वारा निर्मित नारायणी गंडकी महा आरती गाकर कार्यक्रम को विराम दिया गया। हवन करके विश्व शांति की कामना की गई।

स्वरांजलि सेवा संस्थान द्वारा विशिष्ट कार्यों के लिए एसएसबी 21वीं वाहिनी के कमांडेंट श्री प्रकाश, डिप्टी कमांडेंट उमाशंकर नशाना, एनएनटी डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड के प्रोजेक्ट मैनेजर इंजीनियर विनय प्रताप सिंह, कस्टमर अधीक्षक के.के मिश्रा ,शुभम नीरज, होम लाल प्रसाद, एवम् इंस्पेक्टर प्रदीप कुमार मंडल को धर्मपाल गुरु वशिष्ठ जी महाराज एवम् आचार्य उदय भानु चतुर्वेदी ने संयुक्त रूप से सम्मानित किया।

अतिथिगण अंग वस्त्रम के साथ नारायणी गंडकी सम्मान से सम्मानित किए गए। आगामी 28 सितंबर को नारायणी गंडकी महा आरती के दौरान पर्यावरण प्रेमी गजेंद्र यादव लाखों पौधारोपण करने के लिए नारायणी गंडकी सम्मान से सम्मानित किए जाएंगे उक्त घोषणा संस्था के एम डी संगीत आनंद ने की। संस्था को समय-समय पर सहयोग देने के लिए राव एमआरआई सेंटर गोरखपुर, एसके सुपरमार्ट पूर्वी चंपारण, वर्ल्ड मीडिया विजन दिल्ली, संवेदक श्री मुन्ना सिंह ,नवरत्न प्रसाद ,जदयू नेता विभव राय, वशिष्ठ डेयरी उद्योग के पवन भट्टराई एवं संरक्षक मंडल के सदस्यों की विशेष रूप से प्रशंसा की गई। भारत नेपाल से आए सैकड़ो भक्तों ने महा आरती में भाग लिया। थरुहट एवं ग्रामीण महिलाओं के भजनों ने माहौल को भक्तिमय बना दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!